Varanasi Court Judge Transferred In Gyanvapi Mosque Supreme Court Says Experienced Judge Will Handle The Matter Ann

Date:

[ad_1]

Judge Transfer: ज्ञानवापी मामले में वाराणसी के जिला जज का ट्रांसफर कर दिया गया है. सुप्रीम कोर्ट ने इसका आदेश देते हुए कहा कि मामले की जटिलता को देखते हुए इसे अधिक अनुभवी जज को भेजा जा रहा है. सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि मामले से जुड़े सभी वाद और आवेदन पर अब जिला जज ही सुनवाई करेंगे. 3 जजों की बेंच ने जिला जज से कहा है कि वह मुस्लिम पक्ष के उस आवेदन को प्राथमिकता से सुनें, जिसमें हिंदू पक्ष के वाद को सुनवाई के अयोग्य कहा गया है.

जस्टिस डी वाई चंद्रचूड़, सूर्य कांत और पीएस नरसिम्हा की बेंच ने परिसर में यथस्थिति का आदेश दिया है. कोर्ट ने कहा है कि 17 मई को जो अंतरिम आदेश दिया गया था, वह अभी लागू रहेगा. इसके तहत शिवलिंग वाली जगह सुरक्षित रखी जाएगी. यानी वहां वज़ू नहीं होगा. परिसर में पहले की तरह नमाज़ पढ़ी जाती रहेगी. कोर्ट ने प्रशासन से कहा है कि वह वज़ू के लिए उचित इंतजाम करे. जुलाई के तीसरे हफ्ते में सुप्रीम कोर्ट में मामले की अगली सुनवाई होगी.

अंतरिम आदेश प्रभावी रहेगा

सुप्रीम कोर्ट ने यह भी कहा है कि वाद को सुनवाई के अयोग्य बताने वाले आवेदन पर जिला जज के आदेश के 8 हफ्ते तक 17 मई का अंतरिम आदेश प्रभावी रहेगा. ऐसा इसलिए किया जा रहा है ताकि आदेश से प्रभावित पक्ष को अपील के लिए ज़रूरी समय मिल सके.

कोर्ट में भिड़ गए मुस्लिम पक्ष और हिंदू पक्ष के वकील

सुनवाई के दौरान 2-3 बार अंजुमन इंतजामिया मस्ज़िद के वकील हुजेफा अहमदी की हिंदू पक्ष के लिए पेश वरिष्ठ वकील सी एस वैद्यनाथन और यूपी सरकार के लिए पेश सॉलिसीटर जनरल तुषार मेहता से हल्की झड़प हुई. वैद्यनाथन की मांग थी कि सबसे पहले ज़िला जज को सर्वे कमीशन की रिपोर्ट पर सुनवाई करनी चाहिए. वहीं तुषार मेहता ने वज़ू को लेकर अहमदी पर गलतबयानी का आरोप लगाया. उन्होंने कहा कि प्रशासन ने वज़ू के लिए ज़रूरी प्रबंध किया है.

कोर्ट की अहम टिप्पणी

मुस्लिम पक्ष के वकील ने प्लेसेस ऑफ वर्शिप एक्ट, 1991 का हवाला दिया. उन्होंने कहा कि एक्ट की धारा 3 के तहत किसी धार्मिक जगह का चरित्र नहीं बदला जा सकता. इस पर बेंच के अध्यक्ष जस्टिस चंद्रचूड़ ने उन्हें टोकते हुए कहा कि किसी जगह के धार्मिक चरित्र का पता लगाने का प्रयास धारा 3 का उल्लंघन नहीं है. उन्होंने उदाहरण देते हुए कहा कि अगर किसी पारसी पूजा स्थल में ईसाई धार्मिक प्रतीक क्रॉस रखा हो और मामला कोर्ट में आ जाए, तो जज उस जगह के धार्मिक स्टेटस की जांच कर सकते हैं.

जजों ने यह भी साफ किया कि मामला ज़िला जज को भेजने का अर्थ यह नहीं है कि वह अब तक मामले को सुन रहे सीनियर डिवीजन सिविल जज के काम पर कोई नकारात्मक टिप्पणी कर रहे हैं. मामले के जटिल कानूनी सवालों को देखते हुए ज़िला जज के पास इसे भेजा जा रहा है क्योंकि उन्हें सिविल मामलों में 25 से 30 साल का अनुभव होता है.

ये भी पढ़ें: Gyanvapi Verdict: ज्ञानवापी मस्जिद मामले पर सुप्रीम कोर्ट ने दखल देने से किया इनकार, पढ़ें सुनवाई की 5 बड़ी बातें

ये भी पढ़ें: Gyanvapi Mosque Case: वाराणसी की ज्ञानवापी मस्जिद मामले पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के बाद क्या बोले हिंदू पक्ष के वकील?

[ad_2]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Share post:

Subscribe

Popular

More like this
Related

Irfan Ka Cartoon Kapil Sibal Reached On The Way To Rajya Sabha With The Help Of Samajwadi Party Cartoonist Irfan Showed His Happiness In...

Irfan Ka Cartoon: शुक्रवार को राज्यसभा (Rajya Sabha)...

Sidhu Moose Wala Murder Case Suspected Identified Priyavrat Fauji And Ankit Sersa From Sonipat

Sidhu Moose Wala Murder Case: पंजाबी गायक और...

Punjabi Singer Moose Wala Murder Case CCTV Footage From Petrol Pump Shows Suspects

Punjabi Singer Sidhu Moosewala Murder Case: पंजाबी गायक...

Kashmir Target Killing Terrorist Grenade Attack On Two Migrant Labourers In Shopian Both Injured

Kashmir Target Killing: कश्मीर में टारगेट किलिंग का सिलसिला...
Chat With Me
1
Hello
TechnoZ
Hello 👋
Can we help you?
Technoz (Web Development)